एक रुपये का नोट सात लाख में

rupee_one_note_for_seven_lacsनयी दिल्ली, 22 जून। 20 साल पहले भारतीय सरकार ने एक रुपये के नोट की छपायी बंद कर दी थी। अब एक जनवरी 2015 से इसकी छपायी दोबारा शुरू हो गयी है।  लेकिन, पुराना नोट चाहिए तो भारी कीमत चुकानी पड़ेगी। एक ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर एक रुपये का नोट सात लाख में बिक रहा है। यह नोट आजादी से पहले का है। वैसे जिस साल का आपको नोट चाहिए वो आप ऊंची कीमत देकर खरीद सकते हैं।

7 लाख रुपये की कीमत का यह नोट आजादी से पहले का एकमात्र नोट है, जिस पर उस समय के गवर्नर जे डब्ल्यू केली के दस्तखत हैं। 80 साल पुराने इस नोट को ब्रिटिश इंडिया की ओर से 1935 में जारी किया गया था।

इसी तरह साल 1949 का एक रुपये का नोट 6 हजार रुपये में है। इस पर तत्कालीन वित्त सचिव के. आर. मेनन के दस्तखत हैं। ऐसा नहीं कि ईबे में हर नोट इतने महंगे ही हैं, कुछ नोट ऐसे भी हैं जो कम कीमत में भी मिल रहे हैं। 1966 का एक रुपये का एक नोट 45 रुपये में भी उपलब्ध है। इसी तरह 1957 का एक नोट 57 रुपये में मिल रहा है।

ऐसा नहीं कि ईबे के इस पेज पर सिर्फ एक रुपये के एक-एक नोट हैं। बल्कि कुछ नोटों के बंडल भी यहां उपलब्ध हैं। साल 1949, 1957 और 1964 के 59 नोटों का बंडल के दाम 34,999 रुपये है। वहीं, 1957 का एक रुपये का एक बंडल 15 हजार रुपये में भी उपलब्ध है। साल 1968 का एक रुपये का एक बंडल 5,500 रुपये का है, खास बात यह है कि इसमें एक नोट 786 नंबर का भी है।