आसाराम मामलाः एक और गवाह पर हमला

kripalsingh_prime_witness_shot_atशाहजहांपुर, 10 जुलाई। नाबालिग छात्रा के यौन शोषण के आरोप में राजस्थान की जोधपुर जेल में बंद आसाराम आसाराम के खिलाफ गवाह बने एक और व्यक्ति पर जानलेवा हमला किया गया है। कृपाल सिंह नाम के इस गवाह को शुक्रवार देर रात शाहजहांपुर में अज्ञात हमलावरों ने गोली मार दी, गोली उसकी पीठ में लगी। कृपालसिंह को बरेली रेफर किया गया है जहां उसकी हालत नाजुक बनी हुई है। आसाराम केस में अब तक नौ गवाहों पर हमले हो चुके हैं। 35 वर्षीय कृपाल सिंह आसाराम के खिलाफ यौन शोषण का केस दर्ज कराने वाली लडकी के पिता के ट्रांसपोर्ट पर जॉब करता है।

जानकारी के अनुसार कृपाल सिंह शुक्रवार शाम को बाइक से घर जा रहा था तभी कैंट चौकी इलाके के ग्वालटोला में बाइक से आये दो लोगों ने उसके पीछे से गोली मार दी। दोनों ने कथित रूप से उन्हें आसाराम के खिलाफ गवाही न देने की चेतावनी दी और मौके से फरार हो गये। कृपाल को तुरंत स्थानीय अस्पताल ले जाया गया, लेकिन हालत बिगड़ने पर उसे बरेली रेफर कर दिया गया। फिलहाल कृपाल सिंह की हालत गंभीर बनी हुई है। देर रात उसे बरेली जिला अस्पताल रैफर किया गया लेकिन घर वाले एक निजी अस्पताल में उसका इलाज करा रहे हैं।

कृपाल के परिवार ने आरोप लगाया है कि उस पर हमला आसाराम के गुर्गाें ने किया है। अतिरिक्त सिटी मजिस्ट्रेट को दिये बयान में कृपाल सिंह ने आरोप लगाया था कि आसाराम से जुड़े कुछ लोग उसे पिछले कुछ दिनों से धमका रहे थे। पुलिस ने हमले के बाद तीन टीमें बनाकर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है। इससे पहले 12 जनवरी को मुजफ्फरनगर में आसाराम के खिलाफ सरकारी गवाह बने उसके पूर्व रसोइये की गोली मार कर हत्या कर दी गयी थी।

कृपाल आसाराम मामले में मुख्य गवाह है। वह रेप पीड़िता के पिता के साथ ट्रांसपोर्ट का काम करता है। चार महीने पहले कृपाल सिंह ने एक ऑडियो क्लिप मीडिया को जारी किया था। इसमें आसाराम जेल में बैठकर अपने गुर्गाें से बात कर रहा था। इसके बाद कृपाल ने अपनी जान का खतरा भी बताया था।