सोफिया के रैप से यूनिलीवर की नींदें उड़ गयी

kodaikanal_wontकोई डेढ़ दशक हो गया, यूनिलीवर ने अपना कोडाइकनाल स्थित थर्मामीटर का कारखाना बन्द कर दिया लेकिन कारखाने का मलवा जिसमें मरकरी भी था, जंगलों में अभी भी पड़ा है। कोडाइकनाल तमिलनाडु का एक पहाड़ी इलाका है जहां आसपास में घने जंगल भी है।

यूनिलीवर एक एंग्लो डच कम्पनी है, जो भारत में हिन्दुस्तान लीवर के नाम से काम करती रही है। कम्पनी का कहना है कि उसने अपना सारा मलवा एक कबाड़ी को बेचा था लेकिन गांव वालों का मानना है कि कम्पनी ने ही यह जहरीला मलवा जंगल में डाला है।

जंगल में पड़े इस मलवे के कारण कोडाइकनाल की झील, पौधों और मछलियों पर पारे के जहर का खतरनाक असर पड़ा है। आज कारखाने के बन्द होने के 14 साल बाद भी जहर का असर आसपास रहने वाले बाशिन्दों के स्वास्थ्य पर बुरा असर डाल रहा है।

यूनिलीवर ने कभी स्वीकार नहीं किया कि उसके कामगारों पर पारे का जहरीला असर पड़ा। उनका दावा है कि कई विशेषज्ञों ने साबित कर दिया है कि उसके पुराने कामगारों पर कोई बुरा असर नहीं हुआ। स्वयंसेवी संस्थानों का मानना है कि करीब 30 लोगों की मृत्यु का कारण पारे का जहर ही रहा है।

सन 2013 में एक डाक्युमेंटरी फिल्म ‘‘मरकरी इन मिस्ट’’ में फिल्मकार अमुधन आर पी ने यूनिलीवर के मरकरी मलवे से प्रभावित लोगों की स्थिति पर प्रकाश डाला। कई लोगों ने अदालतों में रिटें भी लगायी। लेकिन यूनिलीवर ने कभी भी अपनी गलती स्वीकार नहीं की।

अभी हाल ही में चैन्नई की रैप गायिका सोफिया अशरफ का एक म्यूजिक विडियो ‘‘कोडाइकनाल वोन्ट’’ जारी हुआ है। इस विडियो को करीब पांच लाख लोगों ने देखा है। यूनिलीवर के खिलाफ करीब 17हजार लोगों ने रिट पर हस्ताक्षर किये।

चैन्नई से प्रकाशित ‘न्यू इंडियन एक्सप्रेस’ के अनुसार यूनिलीवर के 45 कामगारों और उनके 12 बच्चों की मृत्यु पारे के जहर के कारण हुई थी। साथ ही उस क्षैत्र के निवासियों के स्वास्थ्य पर भी इस जहर का बुरा असर हो रहा है। पारे के जहर से इस क्षैत्र के वासियों को प्रजनन और न्यूरोलॉजिकल साथ ही दिल की बीमारियों और गर्भपात की समस्याओं के साथ जूझना पड़ रहा है।

यूनिलीवर ने यह तो स्वीकार किया कि उसने पारे से प्रदूषित कांच का मलवा एक कबाड़ी को बेचा है लेकिन अपने पूर्व कामगारों के इसके कारण बीमार पड़ने को सही नहीं माना।

सोफिया अशरफ ने 2008 में अमेरिका की रसायन कम्पनी डाउ के विरोध में ‘‘डोण्ट वर्क फोर डाउ’’ का रैप गाया था। सामाजिक सौद्देश्यता के रैप गाने वाली सोफिया ने एक बार फिर कोडाइकनाल में यूनिलीवर द्वारा फैलाये गये प्रदूषण के खिलाफ एक रैप जारी किया है जिसने यूनिलीवर की नींद उड़ा दी है।