मुख्यमंत्री को धमकीः सुरक्षा एजेसिंयों की नींद उड़ी

threat_to_cmजिला कलेक्टर बाड़मेर को मिले एक पत्र ने राजस्थान की सभी सुरक्षा एजेसिंयों की नींद उड़ा दी है। इस पत्र को भेजने वाले ने मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को बम से उड़ाने की धमकी दी है।

एक ओर 23 अक्टूबर को होने वाले मुख्यमंत्री के बाड़मेर दौरे को लेकर युद्धस्तर पर तैयारियां चल रही हैं वहीं, मंगलवार को अज्ञात व्यक्ति द्वारा मुख्यमंत्री को बम से उड़ाने की धमकी भरे पत्र को लेकर प्रदेशभर में हड़कंप मचा हुआ है।

इस मामले में बाड़मेर पुलिस जांच पड़ताल कर रही है। लेकिन अब तक की जांच में यह बात सामने आयी है कि धमकी भरे पत्र का कनेक्शन जोधपुर जेल से है। जिसके चलते जोधपुर प्रशासन भी सतर्क हो गया है और जोधपुर जेल में जांच शुरू हो गयी है। इसके अलावा गुफ्तचर और सुरक्षा एजेंसियां भी अपने स्तर पर जांच कर रही हैं। अंदेशा जताया जा रहा है कहीं कोई शातिर बदमाश जोधपुर जेल से तो इस तरह की साजिश नहीं रच रहा?

मंगलवार को कलेक्टर के नाम मिले इस धमकी भरे पत्र के लिफाफे पर भेजने वाले की जगह केन्द्रीय कारागृह जोधपुर की सील लगी हुई है और इस पत्र के लिफाफे में भारत सरकार के सेवार्थ लिखे होने के अलावा डाक विभाग की जो सील उस पर लगी हुई है, वह भी जोधपुर की ही है।

लिहाजा यह संदेह जताया जा रहा है कि यह पत्र जोधपुर की जेल में से भेजा गया है। इसे ध्यान में रखते हुए जोधपुर की जेल में जेल अधिकारी अपने स्तर पर पड़ताल कर रहे है। यहां एक हजार से अधिक कैदी है तो ऐसे में पत्र लिखने वाले कैदी को ढूंढ़ना मुश्किल है। लेकिन कैदियों को विश्वास में लेकर प्रशासन हर संभव कोशिश कर रहा है कि पत्र भेजने वाले का पता लगाया जा सके। जांच अधिकारी संदिग्ध कैदियों की हैंडराइटिंग जांच भी करा रहे हैं।

इधर बम की सूचना के बाद डाक विभाग के अधिकारी भी अपने स्तर पर हर संभव प्रयास कर रहे हैं। बाड़मेर पुलिस की टीम के अलवा गुप्तचर और सुरक्षा एजेंसियां भी जांच कर रही है कि यह पत्र मजाकिया लहजे में भेजा गया है या अधिकारियों को परेशान करने के लिए। फिलहाल पत्र भेजने वाले का अभी तक कोई सुराग हाथ नहीं लगा है।

सूत्रों ने यह भी संदेह जताया है कि यह काम जोधपुर जेल में कैद आसाराम बापू के किसी प्रशंसक का भी हो सकता है।