सलमान ने ‘प्रेम ..’ को छोटा किया

prem_ratan_dhanआज के जमाने में फिल्म की सफलता में फिल्म की लम्बाई भी एक बहुत महत्वपूर्ण घटक है। आज किसी के पास ज्यादा वक्त नहीं है। फिल्म तीन घंटे के भीतर भीतर निपट जाये तो ठीक वरना फिल्म ही निपट जाती है। यह बात राजश्री फिल्म वालों को समझ नहीं आती है। वे अभी भी पुरानी स्कूल के निर्माता हैं।

सूरज बड़जात्या की ‘प्रेम रतन धन पायो’ फाइनल एडिट के बाद 3 घण्टे 20 मिनिट की बची थी। फिल्म के हीरो सलमान खान को फिल्म की लम्बाई को लेकर ऐतराज था। वे चाहते थे कि फिल्म तीन घण्टे के अंदर पूरी हो। लेकिन सूरज को यह मंजूर नहीं था। सूरज और सलमान फिल्म की लंबाई को लेकर एकमत नहीं थे।

अंततः तय रहा कि फिल्म ऐसे विशेषज्ञ को दिखायी जाये जो फिल्मों को हिट कराने में माहिर रहे हैं। तो तय रहा और फिल्म सलमान खान के पिता सलीम खान को दिखायी गयी। सलीम खान ने फिल्म देखने के बाद कहा कि आज के जमाने के हिसाब से 3 घंटे 20 मिनट की लंबाई ज्यादा है। उसके बाद सलीम साहब के सुझावों के साथ सलमान ने फिल्म में कुछ कट करवाये। और फिल्म की लम्बाई 2 घंटे 50 मिनट रह गयी।