आरजेडी के पूर्व सांसद ‘तेजाब हत्याकाण्ड’ में दोषी

bihar_mohd_shahabudding_held_guiltyसिवान, बिहार। बिहार में ‘तेजाब हत्याकाण्ड’ के नाम से मषहूर मामले में राष्ट्रीय जनता दल के पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन को सिवान की एक अदालत ने दो युवकों की हत्या के मामले में दोषी करार दिया है। शहाबुद्दीन के अलावा तीन अन्य लोगों राजकुमार साह, शेख असलम और आरिफ हुसैन को भी इस हत्याकांड में दोषी ठहराया गया है। शहाबुद्दीन को 11 दिसंबर को सजा सुनायी जायेगी। शहाबुद्दीन अभी इस हत्याकांड सहित एक अन्य मामले में सिवान की जेल में बंद है।
विशेष अदालत के जज अजय कुमार श्रीवास्तव के इस फैसले के बाद शहाबुद्दीन के वकील अभय कुमार राजन ने कहा, ‘‘शहाबुद्दीन पर जेल से निकलकर दो अपहृत युवकों की तेज़ाब डालकर हत्या करवाने का आरोप था। इस मामले में पटना हाईकोर्ट में अपील की जायेगी।’’
दो युवकों की हत्या का यह मामला अगस्त 2004 का है. इस मामले में जिसमें दो सगे भाइयों गिरीश और सतीश की हत्या कर दी गयी थी। मृतकों के तीसरे भाई राजीव रोशन की भी हत्या उसी वर्ष कर दी गयी थी। राजीव इस मामले में चश्मदीद गवाह था। इन दोनों भाइयों के शव कभी भी बरामद नहीं किये जा सके। चंद्रशेखर प्रसाद के इन तीन लड़कों को सिवान के गोशाला रोड स्थित घर से 16 अगस्त 2004 को अगवा कर लिया गया था।
अपहरण का आरोप राजकुमार साह, शेख असलम और आरिफ हुसैन पर लगाया गया। आरोपों के मुताबिक इसके बाद तीनों भाइयों को शहाबुद्दीन के पैतृक गांव प्रतापपुर ले जाया गया। गिरीश और सतीश की तेज़ाब डालकर हत्या कर दी गयी उस समय राजीव भागने में सफल रहा लेकिन बाद में उसकी भी हत्या कर दी गयी।