रेल के जनरल टिकट की वैधता सिर्फ तीन घंटे

अब तक जनरल टिकट खरीदने के बाद आप 24 घंटे में अपना सफर प्रारम्भ कर सकते थे। रेल मंत्री का कहना है कि 199 किलोमीटर तक के सफर के लिए यह वैधता तीन घंटे की होगी। कारण यह बताया कि लाखों लोग इस दौरान सफर कर वापिस भी आजाते हैं और टिकट केंसल कराकर रिफण्ड ले लेते थे और इससे रेलवे को करोड़ों रुपये का चूना लग रहा था।

कमाल है गंतव्य के स्टेशन पर रेलवे का स्टाफ किसलिए रखा जाता है। क्या उनकी ड्यूटी में गंतव्य स्टेशन पर बाहर जाने वाले का टिकट चेक कर उसे प्राप्त करना शामिल नहीं है। उनकी नालायकी और लापरवाही की तरफ रेलवे प्रशासन की नजर नहीं है। यदि गंतव्य पर यात्रियों से टिकट वापिस ले लिया जाये तो ना ता दुबारा प्रयोग में लिया जा सकता है नाही प्रयोग में लिये जाने के बाद रिफण्ड की सम्भावना रहती है।