उपभोक्ता अधिकारः आवासन मंडल उपभोक्ता को देगा पांच लाख रुपये

kailsh_modiजयपुर, 22 मार्च 2016। आज राज्य उपभोक्ता विवाद प्रतितोष आयोग राजस्थान के अध्यक्ष मंडल ने जिला उपभोक्ता प्रतितोष मंच जयपुर तृतीय के दिनांक 22 अप्रेल 2015 के फैसले के विरुद्ध राजस्थान आवासन मंडल द्वारा की गयी अपील को प्रथम सुनवायी के तत्काल बाद खारिज करके अलवर के वरिष्ठ पत्रकार मोदी कैलाश चन्द्र गुप्ता को एक बड़ी राहत पहुंचायी है जिसके तहत जिला उपभोक्ता विवाद प्रतितोष मंच ने उनको हुई मानसिक वेदना, असुविधा एवं परिवाद खर्च के रूप में मंडल द्वारा पांच लाख रुपये दिये जाने का आदेश दिया था। मंच ने यह आदेश भी दिया था कि यह राशि जिम्मेदार अधिकारियों के वेतन या पेंशन से वसूल की जाये।

यह प्रकरण सन 1988 से चल रहा था। परिवादी श्री मोदी ने सांसदों, विधायकों एवं पत्रकारों को जयपुर में आवास देने हेतु विशिष्ठ पंजीकरण योजना 1988 के तहत आवास के लिए आवेदन किया था और आवासन मंडल ने उन्हें पत्रकार आरक्षित वर्ग में वरीयता क्रमांक-1 पर निर्धारित किया था। किन्तु सन 1997 तक उन्हें आवास का आवंटन नहीं किया गया। इसके बाद श्री मोदी ने मंडल की एक खुली लॉटरी में भाग लिया। इस लॉटरी में मोदी को आवास आवंटन हो गया लेकिन 2010 तक उन्हें आवास का कब्जा नहीं दिया गया। मोदी ने आवास के लिए अण्डर प्रोटेस्ट पूरी राशि देकर आवास का कब्जा लिया और जिला उपभोक्ता विवाद प्रतितोष मंच में मंडल के विरुद्ध परिवाद दायर कर दिया था।

जिला मंच ने उनके परिवाद को स्वीकार तो किया ही, साथ ही यह टिप्पणी भी की कि मंडल के अधिकारियों कर्मचारियों ने पूर्ण निरंकुशता एवं मनमानी तरीके से अपने पदीय कर्त्तव्यों का संपादन किया है। इसके लिए सम्बन्धित पदाधिकारियों के विरुद्ध उचित विभागीय कार्यवाही करने की अनुशंसा की।