आइएएस डॉ. नीरज के पवन घूस के मामले में फंसे

pawan_k_neerajजयपुर। कुछ माह पूर्व आईएएस अशोक सिंघवी के खान घूस कांड में पकडे जाने के बाद राजस्थान में बुधवार को एक बार फिर शीर्ष अफसरशाही दागदार नजर आयी। एनआरएचएम में रिश्वत लेने के मामले में पदेन शासन सचिव एवं कृषि और उद्यानिकी आयुक्त डॉ नीरज के पवन भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के निशाने पर आ गये।

भ्रष्टाचार की शिकायत के बाद एसीबी टीमों ने बुधवार सुबह आईएएस अधिकारी डॉ नीरज के 10-12 ठिकानों पर छापे मारते हुए एक दलाल को गिरफ्तार कर लिया है जबकि डॉ नीरज को हिरासत में लिया गया है। सूत्रों के अनुसार एसीबी के यह बड़ी कार्रवाई डॉ. नीरज पर कोई टेंडर देने के सिलसिले में रिश्वत लेने से की शिकायत पर चल रही है।

पवन इससे पहले नेशनल हेल्थ मिशन के एडिशनल डायरेक्टर और मेडिकल हेल्थ के संयुक्त सचिव पद पर कार्यरत रहे हैं।

पिछले साल टोंक रोड पर एक एक्सीडेंट में चिथडे हुए शव को अस्पताल पहुंचाने के लिए पवन खुद वहीं खड़े रहे व एम्बुलेंस और सांगानेर थाने को सूचित किया। नीरज के पवन के तबादले को लेकर अक्टूबर 2012 में जमकर हंगामा हुआ था। तब वे पाली जिला कलेक्टर थे। उनके तबादले को लेकर कुछ लोगों ने जन भावना संघर्ष समिति के बैनर तले कलेक्ट्रेट के बाहर जमकर धरना-प्रदर्शन किया था। नीरज के पवन जब भरतपुर जिला कलेक्टर थे तो वहां जवाहर नगर स्थित लडकियों के एक निजी छात्रावास में औचक निरीक्षण करने पहुंचे और वहां स्नानघर के ऊपर कैमरे लगे मिले। तब नीरज ने छात्रावास में सुरक्षाकर्मी तैनात करवाये।