बाबा साहब अम्बेडकर एवं हिन्दुत्व टोली

ambedkar_b_r

-शम्सुल इस्लाम-

-शम्सुल इस्लाम-

इतिहास के पुनर्लेखन का काम जोर-शोर से चल रहा है। इतिहास के इस पुनर्लेखन को इतिहास का गला घोंटना कहना ज्यादा सही होगा, क्योंकि ंिहंदुत्व टोली द्वारा इतिहास के नाम जो परोसा जा रहा है उसमें सबसे ज्यादा दुगर्ति जिसकी हुई है, वह इतिहास की सच्चाईयां और तथ्य ही हैं। अभी तक इस ‘रचना कर्म’ और ‘सृजनात्मकता ’ के शिकार सुभाषचन्द्र बोस, भगत सिंह, सरदार पटेल और महात्मा गंाधी ही हुए थे लेकिन अब डॉ. भीमराव अम्बेडकर की बारी भी आ गयी है। महात्मा गांधी जिनकी हत्या हिंदुत्ववादी राजनीति द्वारा फैलाये जहर के परिणामस्वरूप हुई थी और सरदार पटेल जिनके स्वतंत्र भारत के पहले गृहमंत्री रहते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर प्रतिबंध लगाया गया था, उनको गोद लेने से संतुष्ट न रहकर संघ टोली अब डॉ. अम्बेडकर के हिंदुत्ववादी होने का ऐलान कर चुकी है।

इस की शुरुआत 2003 में उत्तर प्रदेश में बजरंग दल के नेता विनय कटियार द्वारा शुरु की गयी थी जब यह ऐलान किया गया कि भारत के बारे में डॉ. अम्बेडकर और आरएसएस संस्थापक डॉ. हेडगेवार के एक जैसे विचार थे। बाबा साहब के 124वें जन्म दिन पर तो संघ टोली ने हद कर दी अब आरएसएस के एक वरिष्ठ नेता कृष्ण गोपाल ने आरएसएस के हिंदी/अंग्रेजी मुखपत्र में यह तक लिख दिया कि डॉ. अम्बेडकर ने हिन्दुओं के बीच छुआछूत के लिए देश के 1200-1300 साल पुराने मुसलमान शासकों को जिम्मेदार ठहराया था। हिंदुत्व टोली खुले-आम कह रही है कि डॉ. अम्बेडकर हिंदुवादी थे। आरएसएस से जुड़े नेता व संस्थाएं डॉ. अम्बेडकर को इस ऐतिहासिक सच्चाई के बावजूद कि उन्होंने हिंदू धर्म त्याग कर बौद्ध धर्म स्वीकार कर लिया था, डॉ. अम्बेडकर को हिंदूवादी राजनीति की महान विभूति बता रहे हैं। ऐतिहासिक तथ्यों के साथ इतनी भयानक तोड़-फोड केवल स्वयंसेवक संघ ही कर सकता है।

डॉ. अम्बेडकर भारत में हिन्दू-मुसलमान समस्या या हिंदू और मुसलमान सांप्रदायिकताओं के बीच टकराने के बारे में क्या विचार रखते थे इस बारे में दस्तावेजों का एक बड़ा भंडार उपलब्ध है। 1940 में डॉ. अम्बेडकर ने मुंबई में सक्रिय एक राजनैतिक समूह ‘इंडिपेंडेट लेबर पाटी’ के सदस्यों के बीच इस समस्या पर एक सार्थक बहस चलाने के उद्देश्य से एक रपट प्रस्तुत की जिसे बाद में ‘पाकिस्तान या भारत का विभाजन’ शीर्षक से एक किताब के रूप में भी छापा गया। इस पुस्तक में डॉ. अम्बेडकर ने सांप्रदायिक समस्या पर एक ईमानदार शोधकर्ता के तौर पर वह तमाम सामग्री जमा की जो हिंदू/मुसलमान सांप्रदायिकता और कट्टरता के बारे में तथ्यात्मक जानकारी उपलब्ध कराती थी।

इस पुस्तक में जिन्नाह के नेतृत्व में किस तरह से मुस्लिम सांप्रदायिकता को बढ़ावा मिला, इस बारे में पूरे घटनाक्रम का विस्तृत ब्यौरा प्रस्तुत किया गया। डॉ. अम्बेडकर ने तथ्यों की जुबानी यह तथ्य पाठकों तक पहंुचाने की कोशिश की कि मुस्लिम लीग द्वारा संचालित सांप्रदायिक राजनीति केवल देश के लिए ही नहीं बल्कि आम मुसलमानों के लिए भी बहुत हानिकारक साबित होगी।

लेकिन यह भी सच है कि डॉ. अम्बेडकर ने इसी पुस्तक में हिंदुत्वादी राजनीति’ को देश में सांप्रदायिकता का जहर फैलाने के लिए बुनियादी तौर पर जिम्मेदार माना।

डॉ. अम्बेडकर ने हिंदुत्ववादी राजनीति पर अपने विचार प्रकट करते हुए साफ तौर पर लिखा, ‘’अगर वास्तव में हिंदू राज बन जाता है तो निस्संदेह इस देश के लिए एक भारी खतरा उत्पन्न हो जायेगा। हिंदू कुछ भी कहें, पर हिंदुत्व स्वतंत्रता समानता और भाईचारे के लिए खतरा है। इस आधार पर प्रजातंत्र के लिए यह अनुपयुक्त है। हिंदू राज को हर कीमत पर रोका जाना चाहिए।’’

डॉ. अम्बेडकर का यह साफ मत था कि हिंदुत्ववादी राजनीति का संचालन आम हिंदुओं के हितों को ध्यान में रखते हुए नहीं बल्कि उच्च जाति के एक छोटे से समूह के अधिपत्य को बनाए रखने के लिए किया जा रहा है। डॉ. अम्बेडकर ने लिखा -’’इस मुद्दे पर दो पार्टियों, अर्थात हिंदू और मुस्लिम, दोनों में हिंदू अधिक कठोर हैं। इस बारे में उंची जातियों के हिंदुओं की प्रतिक्रिया जानना काफी है, क्यांेकि वह ही हिंदू जनता का मार्गदर्शन करते हैं और हिंदू जनमत का निर्माण करते हैं। दुर्भाग्यवश, ऊंची जातियों के हिंदू लोग नेता के रूप में बहुत घटिया होते हैं। उनके चरित्र में कोई ऐसा गुण है जिससे हिंदू आमतौर पर घोर विपत्ति पड़ जाते हैं। उनका यह गुण इस कारण बनता है कि वह सब कुछ स्वयं हासिल करना चाहते हैं और जीवन की अच्छी चीजें दूसरों से मिल-बांटना नहीं चाहते। उनके पास शिक्षा और शक्ति या अधिकार का एकाधिकार है और शक्ति और शिक्षा से वे राज्य पर काबिज हो पाये हैं। उनके जीवन की आकांक्षा और लक्ष्य यही है कि उनका यह एकाधिकार बना रहे। अपने वर्ग का प्रभुत्व बनाये रखने में ही उनका स्वार्थ है और इसीलिए वह नीची जातियों के हिंदुओं को अधिकार या शक्ति, शिक्षा और सत्ता से वंचित रखने के लिए हर संभव उपाय अपनाते हैं। ऊंची जातियों के हिंदुओं ने नीची जातियों के हिंदुओं के बारे में अपना जो दृष्टिकोण बना रखा है, उसे ही वह मुस्लिमों पर लागू करना चाहते हैं। जो कुछ उन्होंने नीची जातियों के हिंदुओं के साथ किया है उसी तरह वह मुसलमानों को श्रेणी और सत्ता से अलग रखना चाहते हैं।’’

आर.एस.एस. से जुड़े लोगों का यह अभियान लगातार चल रहा है कि वे मुसलमान विरोधी थे और हिंदुत्ववादी राजनीति के महान समर्थक थे। डॉ. अम्बेडकर की विरासत के साथ इससे बड़ा खिलवाड़ नहीं हो सकता।

डॉ. अम्बेडकर सावरकर और हिंदुत्ववादी राजनीति के बारे में समझ रखत थे वह भी इस पुस्तक में स्पष्ट रूप से बयान की गयी है। डॉ. अम्बेडकर ने लिखा-‘‘यह बात सुनने में भले ही विचित्र लगे, पर एक राष्ट्र बनाम दो राष्ट्र के प्रश्न पर सावरकर और जिन्नाह के विचार परस्पर विरोधी होने के बजाए एक दूसरे से पूरी तरह मेल खाते हैं। दोनेां ही इस बात को स्वीकार करते हैं कि भारत में दो राष्ट्र है‘ एक मुस्लिम राष्ट्र और एक हिंदू राष्ट्र। उनमें मतभेद केवल इस बात पर है कि इन दोनों राष्ट्रों को किस शर्त पर एक दूसरे के साथ रहना चाहिए………….सावरकर इस बात पर जोर देते हैं कि यद्यपि भारत में दो राष्ट्र, परंतु हिंदुस्तान को दो भागों में एक मुसलमानों के लिए और दूसरा हिंदुओं के लिए नहीं बांटा जायेगा। यह संविधान ऐसा होगा जिसमें हिंदू राष्ट्र को यह वर्चस्व मिले जिसका वह अधिकारी है और मुस्लिम राष्ट्र को हिंदू राष्ट्र के अधीनस्थ सहयोग की भावना से रहना होगा।’’

डॉ. अम्बेडकर के अनुसार सावरकर का यह दृष्टिकोण तर्कसंगत नहीं माना जा सकता था। उन्होंने लिखा -‘‘यदि वे (सावरकर) हिंदू राष्ट्र के लिए एक अलग कौमी वतन का दावा करते है, तो मुस्लिम राष्ट्र के कौमी वतन के दावे का विरोध कैस कर सकते है? डॉ. अम्बेडकर हिंदुत्ववादी राजनीति के खतरों से अपनी पुस्तक में बार-बार आगाह करते हैं। उन्होंने एक जगह लिखा- ‘‘ब्रिटेन आक्रामक बहुसंख्यक हिंदू को सत्ता सोैंपने और उसे अपना उत्तराधिकारी बना कर अल्पसंख्यकों से अपनी इच्छानुसार निपटने की सहमति नहीं दे सकता। इससे साम्राज्यवाद का अंत नहीं होगा। इससे तो एक और साम्राज्यवाद का उदय हो जायेगा।’’

हिंदुत्व टोली का यह दावा कि डॉ. अम्बेडकर हिंदुत्ववादी राजनीति और हिंदू राष्ट्र के समर्थक थे एक शर्मनाक सफेद झूठ है। डॉ. अम्बेडकर हिंदू राष्ट्र और मुसलमान राष्ट्र के विचारों को दफना कर एक ऐसा देश चाहते थे जिसमें, ‘‘हिंदू तथा मुसलमान मिलजुल कर राजनीतिक पार्टियों का निर्माण कर लें, जिनका आर्थिक जीर्णोद्धार तथा स्वीकृत सामाजिक कार्यक्रम हो तथा जिसके फलस्वरूप हिंदू राज तथा मुस्लिम राज का खतरा टल सके। भारत में हिंदू मुसलमानों की संयुक्त पार्टी की रचना कठिन नहीं है। हिंदू समाज में ऐसी बहुत सी उपजातियां हैं जिनकी आर्थिक, सामाजिक, राजनीतिक आवश्यकताएं वहीं है जो बहुसंख्यक मुस्लिम जातियों की हैं। अतः वे उन उच्च जातियों के हिंदुओं की अपेक्षा, जिन्होंने शताब्दियों से आम मानव अधिकारों से उन्हें वंचित कर दिया है, अपने व अपने समाज के हितों की उपलब्धियों के लिए मुसलमानों से मिलने के लिए शीघ्र तैयार हो जाएंगे।’’ डॉ. अम्बेडकर के इन विचारों से यह सच्चाई बहुत स्पष्ट होकर उभर आती है कि वह एक ऐसा धर्मनिरपेक्ष भारत चाहते थे जिसमें गरीब हिंदू और मुसलमान मिलकर राज करें और एक न्यायसंगत समाज बना सकें। डॉ. अम्बेडकर की इस धर्मनिरपेक्ष विरासत के साथ खिलवाड़ और बलात्कार का सबसे शर्मनाक पहलू यह है कि उन्हे मसीहा मानने वाले और डॉ. अम्बेडकर के विचारों का झंडा बुलंद किए संगठनों ने इस सबके खिलाफ अपना प्रतिरोध प्रभावशाली ढंग से दर्ज नहीं कराया है। इसका मुख्य कारण यह है कि बाबा साहब अम्बेडकर का दंभ भरने वाले संगठन उनके विचारों से अनभिज्ञ हैं। संघ टोली की तो मजबूरी है कि वह गांधी जी, सरदार पटेल और अंबेडकर जैसी विभूतियों की गोद ले ताकि स्वतंत्रता आंदालेन से इसकी गद्दारी परपर्दा डाल सकें। लेकिन डॉ अम्बेडकर के विचारों में विश्वास रखने वाले लोगों का उनकी विरासत से अनजान बने रहने के पीछे क्या मजबूरी है समझ में नहीं आता है।

हिंदुत्व टोली बाबा साहब का कितना सम्मान करती है और उनके समतामूलक एजेंडे के प्रति कितनी प्रतिबद्ध है उसका अनुमान बाबा साहब के 125वें जन्म दिन से दो दिन पहले इसकी हरियाणा सरकार द्वारा गुड़गांव का नाम बदल कर गुरुग्राम करने से जाना जा सकता है। सरकारी विज्ञप्ति में नाम बदलने की वजह बताते हुए कहा गया है कि महाभारत के अनुसार यहां गुरु द्रोणाचार्य का निवास था, इसलिए गुडगांव का नाम बदला जा रहा है। याद रहे यह वही गुरू द्रोणाचार्य है जिन्होंने एक शूद्र एकलव्य का अंगूठा इसलिए गुरू दक्षिणा के तौर पर मांग लिया था क्योंकि शूद्र एकलव्य गुरू के उच्च जाति के कौरव और पांडव कुनबों के उनके शागिदों से बहुत अच्छी तीरंदाजी कर लेता था। गुरू दक्षिणा में अंगूठा मांग कर गुरू द्रोणाचार्य ने अपने उच्च जातीय शार्गिदों की जीत सुनिश्चित करा दी थी। हमारे देश के संविधान निर्माता और दलित मसीहा के जन्मदिन के मौके पर इस तरह का फैसला उनका घोर अपमान ही माना जायेगा।